Vashikaran Mantra – देवी मंत्र द्वारा वशीकरण

Share Button
देवी मंत्र द्वारा वशीकरण – Vashikaran Mantra Sadhna,Vashikaran Mantra Yantra,Vashikaran Tantra Vidya,Vashikaran Uchchatan Mantra,Mohini Vidya Vashikaran Stambhan,Powerful Vashikaran Tilak,Kamakhya Vashi Karan Mantra,Vashikaran Mantra Sadhna,Vashikaran
Vashikaran Mantra Sadhna,Vashikaran Mantra Yantra,Vashikaran Tantra Vidya,Vashikaran Uchchatan Mantra,Mohini Vidya Vashikaran Stambhan,Powerful Vashikaran Tilak,Kamakhya Vashi Karan Mantra,Vashikaran Mantra Sadhna,Vashikaran Tantra Vidya,Vashikaran Mantra Yantra,Vashi Karan Rosary,Vashi-Karan Yantra,Vashikaran Uchchatan Mantra,Bagula Stambhan Yantra,Infatuation Mantra Stambhan Tantra,Infatuation Yantra Tantra Mantra,Maran Beej Mantra Yantras,Vashikaran Tantra Vidya,Mohini Vidya Vashikaran Practice,Vashikaran Energised Talisman,Powerful Vashikaran Tilak,Genuine Vashikaran Amulets,Kamakhya Vashi Karan Mantra,Vasikaran Practices India , invisible, supernatural, omnipresent force, education, livelihood, family, business, Traditional, Vedic, Astrology, planets, mantra, gems, medican, daan, snnan, yantras,Traditional, Vedic, Astrology, planets, mantra, gems, medican, daan, snnan, yantrasVashikaran,Vashikaran Services, Love Spells,Wicca,Vodoo Magic, Vashikaran Mantra,Yantra,Tantra,Marriage Problem,Witch Craft Magic Spells,Control Boyfriend,Control Girl Friend,Control Husband,Control Wife,Control Inlaws, Vashikaran Yantra, Vashikaran Mantra, Vashikaran Tantra, Metaphysical Products, Yantra Vashikaran, Vodoo Doll,Relationship Problem,Marital Problems,Relationship Counseling,Voodoo Magic,Witch Craft,Magic Spells,Love Spells,Get Back Love

Vashikaran Mantra Sadhna,Vashikaran Mantra   Magic,Witch Craft,Magic Spells,Love Spells,Get Back Love

वशीकरण का सामान्य और सरल अर्थ है- किसी को प्रभावित करना, आकर्षित करना या वश में करना। जीवन में ऐसे कई मोके आते हैं जब इंसान को ऐसे ही किसी उपाय की जरूरत पड़ती है। किसी रूठें हुए को मनाना हो या किसी अपने के अनियंत्रित होने पर उसे फिर से अपने नियंत्रण में लाना हो,तब ऐसे ही किसी उपाय की सहायता ली जा सकती है। वशीकरण के लिये यंत्र, तंत्र, और मंत्र तीनों ही प्रकार के प्रयोग किये जा सकते हैं। यहां हम ऐसे ही एक अचूक मंत्र का प्रयोग बता रहे हैं। यह मंत्र दुर्गा सप्तशती का अनुभव सिद्ध मंत्र है। यह मंत्र तथा कुछ निर्देश इस प्रकार हैं-


    ज्ञानिनामपि चेतांसि, देवी भगवती ही सा। बलादाकृष्य मोहाय, महामाया प्रयच्छति ।। यह एक अनुभवसिद्ध अचूक मंत्र है। इसका प्रयोग करने से पूर्व भगवती त्रिपुर सुन्दरी मां महामाया का एकाग्रता पूर्वक ध्यान करें। ध्यान के पश्चात पूर्ण श्रृद्धा-भक्ति से पंचोपचार से पूजा कर संतान भाव से मां के समक्ष अपना मनोरथ व्यक्त कर दें। वशीकरण सम्बंधी प्रयोगों में लाल रंग का विशेष महत्व होता है अत: प्रयोग के दोरान यथा सम्भव लाल रंग का ही प्रयोग करें। मंत्र का प्रयोग अधार्मिक तथा अनैतिक उद्देश्य के लिये करना सर्वथा वर्जित है।
Vashikaran Mantra
Share Button

vashikaran vidya,vashikaran mantra for love back in hindi, तंत्र द्वारा वशीकरण

Share Button

vashikaran vidya,vashikaran mantra for love back in hindi,

vashikaran vidya,vashikaran mantra for love back in hindi,

vashikaran vidya,vashikaran mantra for love back in hindi,

तंत्र शास्त्र भारत की एक प्राचीन विद्या है। तंत्र ग्रंथ भगवान शिव के मुख से आविर्भूत हुए हैं। उनको पवित्र और प्रामाणिक माना गया है। भारतीय साहित्य में ‘तंत्र’ की एक विशिष्ट स्थिति है, पर कुछ साधक इस शक्ति का दुरुपयोग करने लग गए, जिसके कारण यह विद्या बदनाम हो गई।

जो तंत्र से भय खाता हैं, वह मनुष्य ही नहीं हैं, वह साधक तो बन ही नहीं सकता! गुरु गोरखनाथ के समय में तंत्र अपने आप में एक सर्वोत्कृष्ट विद्या थी और समाज का प्रत्येक वर्ग उसे अपना रहा था! जीवन की जटिल समस्याओं को सुलझाने में केवल तंत्र ही सहायक हो सकता हैं! परन्तु गोरखनाथ के बाद में भयानन्द आदि जो लोग हुए उन्होंने तंत्र को एक विकृत रूप दे दिया! उन्होंने तंत्र का तात्पर्य भोग, विलास, मद्य, मांस, पंचमकार को ही मान लिया! 
“मद्यं मांसं तथा मत्स्यं मुद्रा मैथुनमेव च, मकार पंचवर्गस्यात सह तंत्रः सह तान्त्रिकां”
जो व्यक्ति इन पांच मकारो में लिप्त रहता हैं वही तांत्रिक हैं, भयानन्द ने ऐसा कहा! उसने कहा की उसे मांस, मछली और मदिरा तो खानी ही चाहिए, और वह नित्य स्त्री के साथ समागम करता हुआ साधना करे! ये ऐसी गलत धरना समाज में फैली की जो ढोंगी थे, जो पाखंडी थे, उन्होंने इस श्लोक को महत्वपूर्ण मान लिया और शराब पीने लगे, धनोपार्जन करने लगे, और मूल तंत्र से अलग हट गए, धूर्तता और छल मात्र रह गया! और समाज ऐसे लोगों से भय खाने लगे! और दूर हटने लगे! लोग सोचने लगे कि ऐसा कैसा तंत्र हैं, इससे समाज का क्या हित हो सकता हैं? लोगों ने इन तांत्रिकों का नाम लेना बंद कर दिया, उनका सम्मान करना बंद कर दिया, अपना दुःख तो भोगते रहे परन्तु अपनी समस्याओं को उन तांत्रिकों से कहने में कतराने लगे, क्योंकि उनके पास जाना ही कई प्रकार की समस्याओं को मोल लेना था! और ऐसा लगने लगा कि तंत्र समाज के लिए उपयोगी नहीं हैं!परन्तु दोष तंत्र का नहीं, उन पथभ्रष्ट लोगों का रहा, जिनकी वजह से तंत्र भी बदनाम हो गया! सही अर्थों में देखा जायें तो तंत्र का तात्पर्य तो जीवन को सभी दृष्टियों से पूर्णता देना हैं!जब हम मंत्र के माध्यम से देवता को अनुकूल बना सकते हैं, तो फिर तंत्र की हमारे जीवन में कहाँ अनुकूलता रह जाती हैं? मंत्र का तात्पर्य हैं, देवता की प्रार्थना करना, हाथ जोड़ना, निवेदन करना, भोग लगाना, आरती करना, धुप अगरबत्ती करना, पर यह आवश्यक नहीं कि लक्ष्मी प्रसन्ना हो ही और हमारा घर अक्षय धन से भर दे! तब दुसरे तरीके से यदि आपमें हिम्मत हैं, साहस हैं, हौसला हैं, तो क्षमता के साथ लक्ष्मी की आँख में आँख डालकर आप खड़े हो जाते हैं और कहते हैं कि मैं यह तंत्र साधना कर रहा हूँ, मैं तुम्हें तंत्र में आबद्ध कर रहा हूँ और तुम्हें हर हालत में सम्पन्नता देनी हैं, और देनी ही पड़ेगी!पहले प्रकार से स्तुति या प्रार्थना करने से देवता प्रसन्ना न भी हो परन्तु तंत्र से तो देवता बाध्य होते ही हैं, उन्हें वरदान देना ही पड़ता हैं! मंत्र और तंत्र दोनों ही पद्धतियों में साधना विधि, पूजा का प्रकार, न्यास सभी कुछ लगभग एक जैसा ही होता हैं, बस अंतर होता हैं, तो दोनों के मंत्र विन्यास में, तांत्रोक्त मंत्र अधिक तीक्ष्ण होता हैं! जीवन की किसी भी विपरीत स्थिति में तंत्र अचूक और अनिवार्य विधा हैं.आज के युग में हमारे पास इतना समय नहीं हैं, कि हम बार-बार हाथ जोड़े, बार-बार घी के दिए जलाएं, बार-बार भोग लगायें, लक्ष्मी की आरती उतारते रहे और बीसों साल दरिद्री बने रहे, इसलिए तंत्र ज्यादा महत्वपूर्ण हैं, कि लक्ष्मी बाध्य हो ही जायें और कम से कम समय में सफलता मिले! बड़े ही व्यवस्थित तरीके से मंत्र और साधना करने की क्रिया तंत्र हैं! किस ढंग से मंत्र का प्रयोग किया जायें, साधना को पूर्णता दी जायें, उस क्रिया का नाम तंत्र हैं! और तंत्र साधना में यदि कोई न्यूनता रह जायें, तो यह तो हो सकता हैं, कि सफलता नहीं मिले परन्तु कोई विपरीत परिणाम नहीं मिलता! तंत्र के माध्यम से कोई भी गृहस्थ वह सब कुछ हस्तगत कर सकता हैं, जो उसके जीवन का लक्ष्य हैं! तंत्र तो अपने आप में अत्यंत सौम्य साधना का प्रकार हैं, पंचमकार तो उसमें आवश्यक हैं ही नहीं! बल्कि इससे परे हटकर जो पूर्ण पवित्रमय सात्विक तरीके, हर प्रकार के व्यसनों से दूर रहता हुआ साधना करता हैं तो वह तंत्र साधना हैं!

जनसाधारण में इसका व्यापक प्रचार न होने का एक कारण यह भी था कि तंत्रों के कुछ अंश समझने में इतने कठिन हैं कि गुरु के बिना समझे नहीं जा सकते । अतः  ज्ञान का अभाव ही शंकाओं का कारण बना।
तंत्र शास्त्र वेदों के समय से हमारे धर्म का अभिन्न अंग रहा है। वैसे तो सभी साधनाओं में मंत्र, तंत्र एक-दूसरे से इतने मिले हुए हैं कि उनको अलग-अलग नहीं किया जा सकता, पर जिन साधनों में तंत्र की प्रधानता होती है, उन्हें हम ‘तंत्र साधना’ मान लेते हैं। ‘यथा पिण्डे तथा ब्रह्माण्डे’ की उक्ति के अनुसार हमारे शरीर की रचना भी उसी आधार पर हुई है जिस पर पूर्ण ब्रह्माण्ड की।
तांत्रिक साधना का मूल उद्देश्य सिद्धि से साक्षात्कार करना है। इसके लिए अन्तर्मुखी होकर साधनाएँ की जाती हैं। तांत्रिक साधना को साधारणतया तीन मार्ग : वाम मार्ग, दक्षिण मार्ग व मधयम मार्ग कहा गया है।
श्मशान में साधना करने वाले का निडर होना आवश्यक है। जो निडर नहीं हैं, वे दुस्साहस न करें। तांत्रिकों का यह अटूट विश्वास है, जब रात के समय सारा संसार सोता है तब केवल योगी जागते हैं।
तांत्रिक साधना का मूल उद्देश्य सिद्धि से साक्षात्कार करना है। यह एक अत्यंत ही रहस्यमय शास्त्र है ।
चूँकि इस शास्त्र की वैधता विवादित है अतः हमारे द्वारा दी जा रही सामग्री के आधार पर किसी भी प्रकार के प्रयोग करने से पूर्व किसी योग्य तांत्रिक गुरु की सलाह अवश्य लें। अन्यथा किसी भी प्रकार के लाभ-हानि की जिम्मेदारी आपकी होगी।
परस्पर आश्रित या आपस में संक्रिया करने वाली चीजों का समूह, जो मिलकर सम्पूर्ण बनती हैं, निकायतंत्रप्रणाली या सिस्टम (System) कहलातीं हैं। कार है और चलाने का मन्त्र भी आता है, यानी शुद्ध आधुनिक भाषा मे ड्राइविन्ग भी आती है, रास्ते मे जाकर कार किसी आन्तरिक खराबी के कारण खराब होकर खडी हो जाती है, अब उसके अन्दर का तन्त्र नही आता है, यानी कि किस कारण से वह खराब हुई है और क्या खराब हुआ है, तो यन्त्र यानी कार और मन्त्र यानी ड्राइविन्ग दोनो ही बेकार हो गये, किसी भी वस्तु, व्यक्ति, स्थान, और समय का अन्दरूनी ज्ञान रखने वाले को तान्त्रिक कहा जाता है, तो तन्त्र का पूरा अर्थ इन्जीनियर या मैकेनिक से लिया जा सकता है जो कि भौतिक वस्तुओं का और उनके अन्दर की जानकारी रखता है, शरीर और शरीर के अन्दर की जानकारी रखने वाले को डाक्टर कहा जाता है, और जो पराशक्तियों की अन्दर की और बाहर की जानकारी रखता है, वह ज्योतिषी या ब्रह्मज्ञानी कहलाता है, जिस प्रकार से बिजली का जानकार लाख कोशिश करने पर भी तार के अन्दर की बिजली को नही दिखा सकता, केवल अपने विषेष यन्त्रों की सहायता से उसकी नाप या प्रयोग की विधि दे सकता है, उसी तरह से ब्रह्मज्ञान की जानकारी केवल महसूस करवाकर ही दी जा सकती है, जो वस्तु जितने कम समय के प्रति अपनी जीवन क्रिया को रखती है वह उतनी ही अच्छी तरह से दिखाई देती है और अपना प्रभाव जरूर कम समय के लिये देती है मगर लोग कहने लगते है, कि वे उसे जानते है, जैसे कम वोल्टेज पर वल्व धीमी रोशनी देगा, मगर अधिक समय तक चलेगा, और जो वल्व अधिक रोशनी अधिक वोल्टेज की वजह से देगा तो उसका चलने का समय भी कम होगा, उसी तरह से जो क्रिया दिन और रात के गुजरने के बाद चौबीस घंटे में मिलती है वह साक्षात समझ मे आती है कि कल ठंड थी और आज गर्मी है, मगर मनुष्य की औसत उम्र अगर साठ साल की है तो जो जीवन का दिन और रात होगी वह उसी अनुपात में लम्बी होगी, और उसी क्रिया से समझ में आयेगा.जितना लम्बा समय होगा उतना लम्बा ही कारण होगा, अधिकतर जीवन के खेल बहुत लोग समझ नही पाते, मगर जो रोजाना विभिन्न कारणों के प्रति अपनी जानकारी रखते है वे तुरत फ़ुरत में अपनी सटीक राय दे देते है.यही तन्त्र और और तान्त्रिक का रूप कहलाता है.
तन्त्र परम्परा से जुडे हुए आगम ग्रन्थ हैं। इनके वक्ता साधारणतयः शिवजी होते हैं।तन्त्र का शाब्दिक उद्भव इस प्रकार माना जाता है – “तनोति त्रायति तन्त्र” । जिससे अभिप्राय है – तनना, विस्तार, फैलाव इस प्रकार इससे त्राण होना तन्त्र है। हिन्दू, बौद्ध तथा जैन दर्शनों में तन्त्र परम्परायें मिलती हैं। यहाँ पर तन्त्र साधना से अभिप्राय “गुह्य या गूढ़ साधनाओं” से किया जाता रहा है।तन्त्रों को वेदों के काल के बाद की रचना माना जाता है और साहित्यक रूप में जिस प्रकार पुराण ग्रन्थ मध्ययुग की दार्शनिक-धार्मिक रचनायें माने जाते हैं उसी प्रकार तन्त्रों में प्राचीन-अख्यान, कथानक आदि का समावेश होता है। अपनी विषयवस्तु की दृष्टि से ये धर्म, दर्शन, सृष्टिरचना शास्त्र, प्रचीन विज्ञान आदि के इनसाक्लोपीडिया भी कहे जा सकते हैं।
Share Button

Mantra for sudden wealth

Share Button
mantra for sudden wealth

mantra for sudden wealth

 

mantra for sudden wealth

 

मार्जारी अर्थात्‌ बिल्ली सिंह परिवार का जीव है। केवल आकार का अंतर इसे सिंह से पृथक करता है, अन्यथा यह सर्वांग में, सिंह का लघु संस्करण ही है। मार्जारी अर्थात्‌ बिल्ली की दो श्रेणियाँ होती हैं- पालतू और जंगली। जंगली को वन बिलाव कहते हैं। यह आकार में बड़ा होता है, जबकि घरों में घूमने वाली बिल्लियाँ छोटी होती हैं। वन बिलाव को पालतू नहीं बनाया जा सकता, किन्तु घरों में घूमने वाली बिल्लियाँ पालतू हो जाती हैं। अधिकाशतः यह काले रंग की होती हैं, किन्तु सफेद, चितकबरी और लाल (नारंगी) रंग की बिल्लियाँ भी देखी जाती हैं।

घरों में घूमने वाली बिल्ली (मादा) भी लक्ष्मी की कृपा प्राप्त कराने में सहायक होती है, किन्तु यह तंत्र प्रयोग दुर्लभ और अज्ञात होने के कारण सर्वसाधारण के लिए लाभकारी नहीं हो पाता। वैसे यदि कोई व्यक्ति इस मार्जारी यंत्र का प्रयोग करे तो निश्चित रूप से वह लाभान्वित हो सकता है।

गाय, भैंस, बकरी की तरह लगभग सभी चौपाए मादा पशुओं के पेट से प्रसव के पश्चात्‌ एक झिल्ली जैसी वस्तु निकलती है। वस्तुतः इसी झिल्ली में गर्भस्थ बच्चा रहता है। बच्चे के जन्म के समय वह भी बच्चे के साथ बाहर आ जाती है। यह पॉलिथीन की थैली की तरह पारदर्शी लिजलिजी, रक्त और पानी के मिश्रण से तर होती है। सामान्यतः यह नाल या आँवल कहलाती हैं।

इस नाल को तांत्रिक साधना में बहुत महत्व प्राप्त है। स्त्री की नाल का उपयोग वन्ध्या अथवा मृतवत्सा स्त्रियों के लिए परम हितकर माना गया है। वैसे अन्य पशुओं की नाल के भी विविध उपयोग होते हैं। यहाँ केवल मार्जारी (बिल्ली) की नाल का ही तांत्रिक प्रयोग लिखा जा रहा है, जिसे सुलभ हो, इसका प्रयोग करके लक्ष्मी की कृपा प्राप्त कर सकता है।

जब पालतू बिल्ली का प्रसव काल निकट हो, उसके लिए रहने और खाने की ऐसी व्यवस्था करें कि वह आपके कमरे में ही रहे। यह कुछ कठिन कार्य नहीं है, प्रेमपूर्वक पाली गई बिल्लियाँ तो कुर्सी, बिस्तर और गोद तक में बराबर मालिक के पास बैठी रहती हैं। उस पर बराबर निगाह रखें। जिस समय वह बच्चों को जन्म दे रही हो, सावधानी से उसकी रखवाली करें। बच्चों के जन्म के तुरंत बाद ही उसके पेट से नाल (झिल्ली) निकलती है और स्वभावतः तुरंत ही बिल्ली उसे खा जाती है। बहुत कम लोग ही उसे प्राप्त कर पाते हैं।
अतः उपाय यह है कि जैसे ही बिल्ली के पेट से नाल बाहर आए, उस पर कपड़ा ढँक दें। ढँक जाने पर बिल्ली उसे तुरंत खा नहीं सकेगी। चूँकि प्रसव पीड़ा के कारण वह कुछ शिथिल भी रहती है, इसलिए तेजी से झपट नहीं सकती। जैसे भी हो, प्रसव के बाद उसकी नाल उठा लेनी चाहिए। फिर उसे धूप में सुखाकर प्रयोजनीय रूप दिया जाता है।

धूप में सुखाते समय भी उसकी रखवाली में सतर्कता आवश्यक है। अन्यथा कौआ, चील, कुत्ता आदि कोई भी उसे उठाकर ले जा सकता है। तेज धूप में दो-तीन दिनों तक रखने से वह चमड़े की तरह सूख जाएगी। सूख जाने पर उसके चौकोर टुकड़े (दो या तीन वर्ग इंच के या जैसे भी सुविधा हो) कर लें और उन पर हल्दी लगाकर रख दें। हल्दी का चूर्ण अथवा लेप कुछ भी लगाया जा सकता है। इस प्रकार हल्दी लगाया हुआ बिल्ली की नाल का टुकड़ा लक्ष्मी यंत्र का अचूक घटक होता है।

तंत्र साधना के लिए किसी शुभ मुहूर्त में स्नान-पूजा करके शुद्ध स्थान पर बैठ जाएँ और हल्दी लगा हुआ नाल का सीधा टुकड़ा बाएँ हाथ में लेकर मुट्ठी बंद कर लें और लक्ष्मी, रुपया, सोना, चाँदी अथवा किसी आभूषण का ध्यान करते हुए 54 बार यह मंत्र पढ़ें- ‘मर्जबान उल किस्ता’।

इसके पश्चात्‌ उसे माथे से लगाकर अपने संदूक, पिटारी, बैग या जहाँ भी रुपए-पैसे या जेवर हों, रख दें। कुछ ही समय बाद आश्चर्यजनक रूप से श्री-सम्पत्ति की वृद्धि होने लगती है। इस नाल यंत्र का प्रभाव विशेष रूप से धातु लाभ (सोना-चाँदी की प्राप्ति) कराता है।

Share Button

Money Mantra – Goddess Lakshmi Money Mantra

Share Button

 

success

success

 

 

लक्ष्मी जी के इस स्तोत्र का प्रतिदिन पाठ हिंदी अर्थ या संस्कृत में करे जिसकी रचना देवराज इन्द्र ने की है.

नमस्तेस्तु महामाये श्रीपीठे सुरपूजिते।

शङ्खचक्रगदाहस्ते महालक्षि्म नमोस्तु ते॥1

नमस्ते गरुडारूढे कोलासुरभयङ्करि।

सर्वपापहरे देवि महालक्षि्म नमोस्तु ते॥2

सर्वज्ञे सर्ववरदे सर्वदुष्टभयङ्करि।

सर्वदु:खहरे देवि महालक्षि्म नमोस्तु ते॥3

सिद्धिबुद्धिप्रदे देवि भुक्ति मुक्ति प्रदायिनि।

मन्त्रपूते सदा देवि महालक्षि्म नमोस्तु ते॥4

आद्यन्तरहिते देवि आद्यशक्ति महेश्वरि।

योगजे योगसम्भूते महालक्षि्म नमोस्तु ते॥5

स्थूलसूक्ष्ममहारौद्रे महाशक्ति महोदरे।

महापापहरे देवि महालक्षि्म नमोस्तु ते॥6

पद्मासनस्थिते देवि परब्रह्मस्वरूपिणि।

परमेशि जगन्मातर्महालक्षि्म नमोस्तु ते॥7

श्वेताम्बरधरे देवि नानालङ्कारभूषिते।

जगत्सि्थते जगन्मातर्महालक्षि्म नमोस्तु ते॥8

महालक्ष्म्यष्टकं स्तोत्रं य: पठेद्भक्ति मान्नर:।

सर्वसिद्धिमवापनेति राज्यं प्रापनेति सर्वदा॥9

एककाले पठेन्नित्यं महापापविनाशनम्।

द्विकालं य: पठेन्नित्यं धनधान्यसमन्वित:॥10

त्रिकालं य: पठेन्नित्यं महाशत्रुविनाशनम्।

महालक्ष्मीर्भवेन्नित्यं प्रसन्ना वरदा शुभा॥11

हिंदी अर्थ :- इन्द्र बोले- श्रीपीठपर स्थित और देवताओं से पूजित होने वाली हे महामाये। तुम्हें नमस्कार है। हाथ में शङ्ख, चक्र और गदा धारण करने वाली हे महालक्षि्म! तुम्हें प्रणाम है॥1॥ गरुडपर आरूढ हो कोलासुर को भय देने वाली और समस्त पापों को हरने वाली हे भगवति महालक्षि्म! तुम्हें प्रणाम है॥2॥ सब कुछ जानने वाली, सबको वर देने वाली, समस्त दुष्टों को भय देने वाली और सबके दु:खों को दूर करने वाली, हे देवि महालक्षि्म! तुम्हें नमस्कार है॥3॥ सिद्धि, बुद्धि, भोग और मोक्ष देने वाली हे मन्त्रपूत भगवति महालक्षि्म! तुम्हें सदा प्रणाम है॥4॥ हे देवि! हे आदि-अन्त-रहित आदिशक्ते ! हे महेश्वरि! हे योग से प्रकट हुई भगवति महालक्षि्म! तुम्हें नमस्कार है॥5॥ हे देवि! तुम स्थूल, सूक्ष्म एवं महारौद्ररूपिणी हो, महाशक्ति हो, महोदरा हो और बडे-बडे पापों का नाश करने वाली हो। हे देवि महालक्षि्म! तुम्हें नमस्कार है॥6॥ हे कमल के आसन पर विराजमान परब्रह्मस्वरूपिणी देवि! हे परमेश्वरि! हे जगदम्ब! हे महालक्षि्म! तुम्हें मेरा प्रणाम है॥7॥ हे देवि तुम श्वेत वस्त्र धारण करने वाली और नाना प्रकार के आभूषणों से विभूषिता हो। सम्पूर्ण जगत् में व्याप्त एवं अखिल लोक को जन्म देने वाली हो। हे महालक्षि्म! तुम्हें मेरा प्रणाम है॥8॥ जो मनुष्य भक्ति युक्त होकर इस महालक्ष्म्यष्टक स्तोत्र का सदा पाठ करता है, वह सारी सिद्धियों और राज्यवैभव को प्राप्त कर सकता है॥9॥ जो प्रतिदिन एक समय पाठ करता है, उसके बडे-बडे पापों का नाश हो जाता है। जो दो समय पाठ करता है, वह धन-धान्य से सम्पन्न होता है॥10॥ जो प्रतिदिन तीन काल पाठ करता है उसके महान् शत्रुओं का नाश हो जाता है और उसके ऊपर कल्याणकारिणी वरदायिनी महालक्ष्मी सदा ही प्रसन्न होती हैं॥11॥

Share Button

Money Mantra – Mantra for Removing Poverty

Share Button
Wealth Mantras

Wealth Mantras

धन जीवन की सबसे प्रमुख आवश्यकताओं में से एक है। इसके अभाव में जीवन बेकार ही लगता है। सभी लोगों को धन की कामना होती है लेकिन कम ही लोग ऐसे होते हैं जिनकी यह इच्छा पूरी होती है। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनहे जीवन भर धन के अभाव में रहना पड़ता है। कुछ साधारण तंत्र प्रयोग करने से धन प्राप्ति के मार्ग खुल सकते हैं। इन प्रयोगों को करते समय मन में श्रृद्धा का भाव होना चाहिए तभी यह प्रयोग सफल होते हैं। कुछ तंत्र प्रयोग इस प्रकार हैं-
- शुक्ल पक्ष के प्रथम शुक्रवार को लक्ष्मी-नारायण मंदिर में जाकर शाम के समय नौ वर्ष से कम उम्र की कन्याओं को खीर के साथ मिश्री का भोजन कराएं तथा उपहार में कोई लाल वस्तु दें। यह उपाय लगातार तीन शुक्रवार करें।
- यदि अचानक ज्यादा खर्च की स्थिति बने तो मंगलवार के दिन हनुमानजी के मंदिर में गुड़-चने का भोग लगाएं और 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें। यह प्रयोग तीन मंगलवार तक करें।
- पुष्य नक्षत्र के शुभ मुहूर्त में शंखपुष्पी की जड़ को विधिवत लेकर आएं और उसे धूप देकर भगवान शिव का ध्यान करते हुए चांदी की डिब्बी में रखें। इसे अपनी तिजोरी में रखने से आर्थिक समस्या दूर हो जाएगी।
- पीपल के पत्ते पर राम लिखकर तथा कुछ मीठा रखकर हनुमान मंदिर में चढ़ाएं। इससे धन लाभ होने लगेगा।
- शुक्रवार के दिन से प्रतिदिन शाम के समय तुलसी के पौधे के सामने गाय के घी का दीपक जलाएं।
- तिजोरी में गुंजा के बीज रखने से भी धन की वृद्धि होती है।

धन जीवन की सबसे प्रमुख आवश्यकताओं में से एक है। इसके अभाव में जीवन बेकार ही लगता है। सभी लोगों को धन की कामना होती है लेकिन कम ही लोग ऐसे होते हैं जिनकी यह इच्छा पूरी होती है। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनहे जीवन भर धन के अभाव में रहना पड़ता है। कुछ साधारण तंत्र प्रयोग करने से धन प्राप्ति के मार्ग खुल सकते हैं। इन प्रयोगों को करते समय मन में श्रृद्धा का भाव होना चाहिए तभी यह प्रयोग सफल होते हैं। कुछ तंत्र प्रयोग इस प्रकार हैं-
- शुक्ल पक्ष के प्रथम शुक्रवार को लक्ष्मी-नारायण मंदिर में जाकर शाम के समय नौ वर्ष से कम उम्र की कन्याओं को खीर के साथ मिश्री का भोजन कराएं तथा उपहार में कोई लाल वस्तु दें। यह उपाय लगातार तीन शुक्रवार करें।
- यदि अचानक ज्यादा खर्च की स्थिति बने तो मंगलवार के दिन हनुमानजी के मंदिर में गुड़-चने का भोग लगाएं और 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें। यह प्रयोग तीन मंगलवार तक करें।
- पुष्य नक्षत्र के शुभ मुहूर्त में शंखपुष्पी की जड़ को विधिवत लेकर आएं और उसे धूप देकर भगवान शिव का ध्यान करते हुए चांदी की डिब्बी में रखें। इसे अपनी तिजोरी में रखने से आर्थिक समस्या दूर हो जाएगी।
- पीपल के पत्ते पर राम लिखकर तथा कुछ मीठा रखकर हनुमान मंदिर में चढ़ाएं। इससे धन लाभ होने लगेगा।
- शुक्रवार के दिन से प्रतिदिन शाम के समय तुलसी के पौधे के सामने गाय के घी का दीपक जलाएं।
- तिजोरी में गुंजा के बीज रखने से भी धन की वृद्धि होती है।

Share Button

Vashikaran Mantra – Bring Your Love Into Intimacy

Share Button
vashikaran mantra

vashikaran mantra

 

 

Vashikaran Mantras or love spells are used to control someone whom you love or want him to love and marry you. If you are in love with someone and want to get him back and married to him, you can use these powerful shabar mantra for vashikaran or love spells to make him under your control. This is strongly recommended not to use these mantras against mankind. It should also be kept in mind that success in vashikaran spells or using a vashikaran mantra is never guaranteed. Always remember that God is supreme to all. Luck and circumstances always matters. If somebody is giving you the guarantee for any type of vashikaran or love spells then he is wrong and making you fool. Use your mind and take right decision. Mantras works under the powers of its deity (ies) and deities are not our servants. They are independent supernatural forces, free to accept or reject your prayer or ritual. Any work which is being done in the interest of humanity will bring fruitful result but if you are trying to use a vashikaran mantra just to get someone for your benefit, it may bring dire consequences before you. Further, it is also suggested not to use evil powers, thoughts or cleverness to bring your dreams come true. It will bring dark future to you nothing else. So be careful. Beget true love in one’s heart for you is vashikaran. Why our parents fulfill all our wishes, why are they always ready even to die for our welfare? Because they are under powerful emotions in terms of love for us. They are under us. This is vashikaran. This is love. So, vashikaran is creating love, a beautiful feeling to be with someone, always.

 Vashikaran Mantra – Bring Your Love Into Intimacy

1. काम पिशाच वशीकरण मन्त्र  (For both man and woman)

ऐं सह वल्लरि क्लीं कर क्लीं कामपिशाच
अमुकीं काम ग्राह्य स्वप्ने मम रूपे नखे विदारय
द्रावय द्रावय इद महेन बन्धय बन्धय श्री फट।

1. Kaam pishach vashikaran mantra (for both males and females)

Aim sah vallari kleem kar kleem kaampishach “amuki” kaam grahay swapane mam rupe nakhe vidaray dravay dravay ed mahen bandhay bandhay sree phat.

Procedure: – Read this mantra in the multiple of 108 times daily for 15 days facing north direction at midnight and up to the sunrise being naked. Use the desired person name in place of “amuki”. If you are a lady and want your love or ex under your control use “kaampishachi” in place of kaampishach and “your lover name” in place of “amuki”. Soon he or she will be under your control. When he comes to you, be normal and make him to marry you. WARNING: This mantra is one of devil vashikaran mantras. Please do not start it without our guidance. It may harmful to you.

 

2. Om bhagwati bhag bhaag dayini devdanti mam vashyam kuru kuru swaha.

Procedure: – This mantra is used to control a lady. Use her name name in place of “devdanti”. Energize the salt seven times by this mantra on Thursday in pleasing manner and give it to the lady in food. Soon the lady will get attracted towards you.

 

3. Kala kalua chausath veer, taal bhaagi tor

jahan ko bheju, vahi ko jaye, maas majja ko shabad ban jaye

apna mara, aap dikhay, chalat baan maru, ulat mooth maru

maar maar kalua, teri aas chaar,

chaumukha deeya, maar baadi ki chaati

itna kaam mera na kare to tujhe mata ka doodh piya haraam.

Procedure: – A lady, whom you want under your control, take earth of her left foot. Energize it with this mantra 7 times and drop on her head cleverly. She will get attracted and be under your control soon.

 

4. Vashikaran by using Cardamom (for both males and females)

Om namoh kala kalua, kaali raat

nish ki putli majhi raat

kala kalua, ghaat baat

sota/soti jo jagay laao

baitha/baithi ko uthaay  laao

khada/khadi ko chalaay laao

mohini yogini chal, raaj ki thaau

amuk/amuki ke tan me chatpati lagaao

jiya le tod, jo koi elaichi hamari khave

kabhi na chhoray hamare saath

ghar ko taje, baahar ko taje

hame taj aur kane jaai

to chhaati phaat turant mar jaai

satya naam adesh guru ka

meri bhakti guru ki shakti

phuro mantra ishwaro vacha.

Procedure: – Energize the cardamom seven times using this mantra and give it to the boy/girl in food or direct cleverly. He/She will be in love with you soon.

 

5. Vashikaran by using sweets (for both males and females)

Om namoh adesh kamakhya devi ko

jal mohu, thal mohu, 

jangal ki hirni mohu

baat chalta batohi mohu, 

darbar baitha raja mohu, palang baithi rani mohu,

mohini mero naam, mohu jagat sansaar,

tara tarila totla, teeno basay kapaal

sir chadhe matu ke, dushman karu pamaal

maat mohini devi ki duhaai

phure mantra khudaai.

Procedure: – Read the mantra 108 times and energize the sweet with it. whomsoever, you will give it to eat, he or she will be under your control.

 

Contact Vashikaran Guru +91-9896382592

Share Button

भगवान् को छोड कर और कहीं दिल लगाया तो अंत में पछताना पडेगा!

Share Button
भगवान् को छोड कर और कहीं दिल लगाया तो अंत में पछताना पडेगा!

 

Share Button

How to get your ex boyfriend back By Vashikaran In Shravan Month

Share Button
how to get your ex boyfriend back

how to get your ex boyfriend back

This Month Is Auspicious for all those who seek to get their love back by vashikaran today i will tell you ……

“how to get your ex boyfriend back”

Steps :-

  1. Every Monday and sunday in Shravana Collect Little curd and Chees (Paneer)

  2. Everyday before sunrise devote this to peepal tree (ashwat vraksh)
  3. When you devote this take seven round of peepal tree and ask whatever you want
  4. In just this month you will find that the person who is not willing to attend your call will ask you for dinner shopping and long ride no matter how hard his/her heart is !

Why This Process is So Powerful ??

Because in this month All The Devas dwell In Peepa Tree ! and any one can ask anything no matter how big it is it will be come true for sure

Anil Kumar turkiya

+91-9896382592

 

Share Button

Importance of First Somvaar of Shravan

Share Button
Importance of First Somvaar of Shravan

Importance of First Somvaar of Shravan

 

The fifth month in Hindu calendar is Shravan Maas,
starting in late July and ending in the third week of August. The star
‘Shravan’ rules the sky during Purnima or full moon day, or during the
course of the month, hence the Month is known as Shravan Month. Shravan Maas
is considered the holiest month of the year as it comes with
innumerable religious festivals and ceremonies. Almost every day of the
month is considered auspicious.

Shravan Maas Puja

The Shravan Maas ushers in a host of auspicious days and festivals.

First of all Shravan Maas Puja is Shravan Somvar Vrat,
where in people observe fast on all Mondays of Shravan Month. Shravan
Somvar is more emphasized for fast as the entire month is dedicated to
Lord Shiva. The fast should be observed after taking bath. People should
pray to the auspicious and graceful Lord Shiva, anointing the Lord with
Panchamritam and other pleasant substances like bilva leaves. One can
liquid food or fruits during the day and pray to the Lord in the evening
to break the fast.

As per the popular belief, one who fasts on all Monday of Shravan has all prayers answered by the Lord.

Shravan Month Festivals also includes Mangala Gouri Puja, which is observed on Tuesdays in Shravan Month.

 

Share Button

Mharo helo suno ji rama peer

Share Button
mharo helo suno ji rama peer

mharo helo suno ji rama peer

This Is The Most Powerful Prayer of Rajasthani Tradition People believe that singing this song loud will cure all diseases and make your any wish come true …

ओ रुणिच रा धणीया ,अजमाल जी रा कंवरा,
माता मेणादे रा लाल ,रानी नेतल रा भरतार ,
म्हारो हेलो सुनो जी रामा पीर जी..
घर घर हूव पूजा थारी ,गाँव गाँव जस गाव जी,
जो कोई लेव नाम पीर रो मनचाया फल पाव जी,
महिमा अपरम्पार थारी,मेडी र धोक लगावा मनड रा फुल चढावा,
ओ रुणिच का धणीया…
देश देश रा आव जातरी,ध्यावे नर और नारी जी,
ध्वजाबन्द हो थे तो धणीया राखो लाज हमारी जी,
ओ रामसा पीर थारी मेडी पर धोक लगावा,
मनडा रा फूल चढावा,ओ रुणिच का धणीया,
आंधलिया न आँख्या दिना ,लंगड़ा न पग दिना जी
बाँझडली न बालक दिना,निरधन न धन दिना जी,
ओ रामसा पीर थारी महिमा है अपरम्पार ,ध्याव ह नर और नार ,
ओ रुणिच का धणीया
डाली बाई हरजस गाव , हरजी चंवर दुलाव जी,
साचा मन स्यु ध्याव ज्यारो बेडो पार हू ज्यावजी ,
ओ रामसा पीर थारा परचा है जग में भारी,सुनो जी अवतारी,
ओ रुणिच का धणीया…..

Share Button
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Go to Top