Most Powerful Vashikaran Mantras

 

 

Most Powerful Vashikaran Mantras

Most Powerful Vashikaran Mantras

Most Powerful Vashikaran Mantras

वशीकरण एक ऐसी मंत्र और साधना प्रक्रिया है जिसके प्रयोग से आप इच्छित व्यक्ति को अपने पक्ष में कर सकते हैं परन्तु हमारे शास्त्र ऐसा करने की अनुमति तभी देते हैं जब हम सही होते हैं फ़िर भी अपने को सही साबित नही कर पाते अर्थात् सही साबित करने का दूसरा कोई रास्ता न बचा हो तभी वशीकरण का रास्ता अपनाना चाहिये. दैनिक लालसाओं की पूर्ति के लिये इन मंत्रों का प्रयोग नही करना चाहिये अन्यथा इसके बहुत ही नकारात्मक दुर्गामी प्रभाव भी भोगने पड़ सकते हैं.

वशीकरण मंत्र कोई आम मंत्र नही हैं. यह बहुत ही गूढ़ मंत्र हैं. जो आज भी समाज की मुख्य धारा में नही हैं. इसलिये जब भी इनको प्रयोग करते हैं किसी योग्य आचार्य की देख-रेख में करें क्योंकि इनके गलत उच्चारण से यह आपके लिये खतरनाक भी साबित हो सकते हैं. यदि स्वयं न कर सके तो विद्वान आचार्यों के द्वारा भी करवाया जा सकता है.
इसका पहला मंत्र मोहन और सम्मोहन के सबसे बड़े देवता अर्थात् श्रीकृष्ण का है. मंत्र है-

 

ॐ क्लीं कृष्णाय नमः

अगर आप किसी व्यक्ति को ध्यान में रखकर और सकंल्प के साथ कहते हैं कि – हे प्रभु! आपकी कृपा से यह व्यक्ति मेरे वश में हो जाये क्योंकि मुझे स्वयं को सही साबित करने का और कोई साधन नही है. ऐसा संकल्प लेकर भगवान श्रीकृष्ण के संमुख कहेंगे तो निश्चित ही आपको लाभ मिलेगा. जिस किसी व्यक्ति को सम्मोहित करना चाहते हैं, अपनी तरफ़ करना चाहते हैं हो जायेगा.

So don't delay and Contact Guru ji and fulfill your wish. Call Right Now: +91-9896382592.(Guru Ji)

 

दूसरा मंत्र दुर्गासप्तशती से है-

ज्ञानि न मपि चेतान्शी देवी भग्वति हिसा ग्रहा बलादा कृष्य मोहाय महामाया प्रयक्षति.

 

इस अत्यधिक चमत्कारिक मंत्र का 40 दिन तक नियमित रुप से 108 बार जाप करना है. यह मंत्र इतना प्रभावशाली है कि इसका जाप होते ही कितना भी ज्ञानी, विद्वान व्यक्ति क्यों न हो आपके नियंत्रण में आ जायेगा. <br>

 

तीसरा मंत्र भगवान नारायण का है-

 

ॐ नमो नारायणाय सर्व लोकन मम वश्य कुरु कुरु स्वहा. <br> अर्थात् हे प्रभु नारायण आपकी कृपा से सर्वलोक को वशीकरण करने की शक्ति मुझमे आ जाये. (सर्वलोक की जगह उस व्यक्ति का भी नाम लिया जा सकता है जिसे सम्मोहित करना हो) वह अवश्य आपके प्रति आकर्षित होगा.

चौथा एक प्रयोग है जिसको करने से केवल एक व्यक्ति ही नही पूरी-पूरी सभा को सम्मोहित किया जा सकता है. इसके लिये आपको करना यह है कि-

तुलसी के चूर्ण में सहदेई के रस को मिलाकर माथे पर तिलक करें.

यदि ऐसा तिलक करके आप किसी सभा अथवा पार्टी में जाते हैं तो सभी आपसे इम्प्रेस रहेंगे. यदि आप किसी एक व्यक्ति को ही आकर्षित करना चाहते हैं तो भी उसके संमुख यही टीका लगाकर जायें. वह अवश्य आपके नियंत्रण में आ जायेगा.

पाँचवा भी एक प्रयोग ही है. इसके लिये –

कही भी जाते समय मोर की कलगी पीले रेशमी वस्त्र में बाँधकर अपने साथ रख लें

इससे सम्मोहन और आकर्षण की शक्ति बढ़ती है. अथवा

श्वेत अपामार्ग की जड़ को घिसकर माथे पर तिलक लगायें.

इससे भी आपके अन्दर जो सम्मोहन की शक्ति है, उसमे निरन्तर वृद्धि होती है.